• Admin

यादों का गुच्छा

एक क़िस्सा होता तो बता देती

एक कहानी होती तो सुना देती

मैं - मैं नहीं हूँ, अपनी यादों का बस एक गुच्छा हूँ


हर दिन मैं इस गुच्छे में से एक फूल चुनती हूँ

अपने हर आज में मैं थोड़ा सा कल जीती हूँ



आँचल

जुलाई, २०२०

बॉम्बे